इस खास पौधे को लगाने से आप बन सकते हैं मालामाल, जाने कैसे

 मनी प्लांट के पौधे ज्यादातर घरों और कार्यालयों में देखे जा सकते हैं। मनी प्लांट न केवल समृद्धि बढ़ाता है बल्कि हमारे स्वास्थ्य के हिसाब से भी बहुत अच्छा माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस पौधे को लगाने से घर में सुख, समृद्धि और धन आता है। और कई लोग अपने घरों में सजावट के रूप में मनी प्लांट लगाते हैं।

 यह विकिरण को फैलने से रोकता है और साथ ही इसकी सकारात्मकता को भी बढ़ाता है। हमारा मानना ​​है कि जैसे-जैसे मनी प्लांट बढ़ता है, यह हमारी आर्थिक वृद्धि और विकास को भी बढ़ाता है। लेकिन अगर इसे गलत दिशा में लगाया जाए तो यह आपको कंगाल भी बना सकता है। आज हम आपको मनी प्लांट के नुकसान और फायदे बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं

 वास्तु शास्त्र के अनुसार, अगर यह पौधा घर में उचित दिशा में नहीं लगाया गया है, तो आपको आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। मनी प्लांट को कभी भी उत्तर पूर्व दिशा में नहीं लगाना चाहिए। मनीप्लांट के लिए यह दिशा नकारात्मक मानी जाती है, क्योंकि उत्तर-पूर्व दिशा को देवगुरु बृहस्पति का प्रतिनिधि माना जाता है और शुक्र और बृहस्पति का शत्रुवत संबंध है। इस कारण से, शुक्र से संबंधित यह संयंत्र एक उत्तर-पूर्व दिशा में है।

 नुकसान

 – ऐसा माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति अपने घर का मनी प्लांट किसी और को उगाने के लिए देता है, तो उसके घर की लक्ष्मी या बरकत चली जाती है।

 – वास्तु शास्त्र में माना जाता है कि मनी प्लांट हमारी नसों को प्रभावित करता है। यदि मनी प्लांट उचित रूप से ऊपर की ओर बढ़ रहा है तो यह अच्छा है अन्यथा यह हानिकारक है।

 – मनी प्लांट को शुक्र ग्रह का पौधा माना जाता है, इसलिए इसे शुक्र के शत्रु ग्रहों के साथ नहीं लगाना चाहिए।

 फायदा

 – ऐसा माना जाता है कि इस बेल के घर में रहने से धन और समृद्धि बढ़ती है। मान्यता के अनुसार, इस पौधे से धन की मात्रा बढ़ती है।

 यदि घर में कोई कच्ची जमीन नहीं है, तो मनी प्लांट लगाना बहुत आवश्यक हो जाता है। आजकल, घरों को अंदर से पूरी तरह से सील कर दिया जाता है। इसलिए शुक्र घर में स्थापित नहीं है, क्योंकि शुक्र कच्ची भूमि का कारक है। इसलिए, अगर घर में कहीं भी कच्ची जमीन नहीं है, तो मनी प्लांट लगाना शुभ माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »