इलेकट्रॉनिक उत्पाद के साथ सिलिका की पुड़िया क्यों आती है,जानिए

अक्सर कई बार हम जब कोई सामान ऑनलाइन मांगते है या बाजार से लाते है जैसे की जूते, बैग या पर्स तो उसमें एक छोटा सा पाउच निकलता है तब आप जरूर सोचते होंगे की ये क्या है और इसका यहाँ क्या काम तो आपको बता दे की ये छोटा सा पाउच बहुत काम का होता है और इसका इस्तेमाल नमी को सोखने के लिए किया जाता है। यह छोटा सा पैकेट नमी सोखने के साथ साथ हवा से पानी के वाष्प को भी शोक सकता है। बता दे की इसका इस्तेमाल आप कई तरीकों से कर सकते है जैसे…

इसका इस्तेमाल चांदी के बर्तन को काला होने से बचाने के लिए कर सकते है। सिलिका जेल के कुछ पाउच चांदी के बर्तनों में रख दें इससे यह हवा में मौजूद नमी को सोख लेगा जिससे चांदी के बर्तन काले नही होंगे

अपने देखा होगा की हमारे घर की अलमारी में रखी पुरानी किताबों से बदबू आने लगती है इसका कारण भी नमी ही होती है। सिलिका जेल के पाउच को किताबों में रख दे इससे किताबो की बदबू दूर हो जायेगी।

सिलिका जेल किसी भी चीज की नमी सोखने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। और ये किसी भी तरह से जहरीला नहीं होता है क्योंकि इसे निगला जा सकता है। लेकिन इसका ये मतलब बिल्कुल नहीं है कि आप पैकेट खोल कर खा लें।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की इसे खाने से आपके शरीर में Dehydration यानी की पानी की कमी हो सकता है। कई बार इससे सांस लेने में भी तकलीफ हो सकती है और साथ ही इससे आपका दम घुट सकता है।

अगर आपका मोबाइल पानी में गिर जाता है तो आप मोबाइल की बैटरी निकल कर पॉलीथिन बैग में सिलिका जेल के पाउच डाल कर एक दो दिन के लिए रख दे।

लेकिन अगर बैटरी नॉन removeable है तो बस आप मोबाइल स्विच ऑफ करके सिलिका जेल के कई सारे पैकेट के साथ फ़ोन को पोंछकर किसी एयर-टाइट डब्बे में बंद कर फोन को 1-2 दिन के लिए छोड़ दें. आपका मोबाइल ठीक हो जाएगा.

कई लोग इस Silica Gel का इस्तेमाल कई और कामों में भी करते हैं। जैसे एक साथ कई पुरानी फोटो रखने पर पर चीपक जाए तो आप इसे रख सकते हैं। साथ ही अगर आपको फोन भी पानी में गिला हो चुका है तो आप इसके जरिए फोन का पानी सोख सकते हैं।

इसके अलावा आप खाने की चीज़ों को नमी से बचाने और और उन्हें ज्यादा दिनों तक फ्रेश बनाये रखने के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते है क्योंकि ये जहरीला नही होता है।

सिलिका जेल जहर नहीं होता है फिर भी इस पर ‘डू नॉट ईट’ या ‘थ्रो अवे’ जैसी चीजें लिखी होती हैं. क्योंकि जब विदेशों में इसका इस्तेमाल शुरू हुआ तो बच्चे इसे अक्सर खा जाते थे। इसे खाने से आप नहीं मरोगे लेकिन गले में अटक गया तो मरने के चांस होते हैं. इसलिए इसे खाने से मना किया जाता है.अगर गलती से आपका बच्चा इसे अपने मुंह में डाल लें तो जल्दी से उसे पानी पिलाएं और डॉक्टर के पास ले जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »