इन दो शख्स के कभी बीते थे गरीबी में दिन,आज गानों की बदौलत करते है लोगों के दिलों पर राज

आज हम आपकों भारत के ऐसे दो सिंगर के बारे में बताने वाले है, जिन्होंने कभी अपनी जिंदगी का गुजर बसर गरीबी में कर रहे थे। लेकिन उनकी मेहनत और लगन ने उनकों गायकी की दुनिया का बादशाह बना दिया। जी हां आज हम बतायेंगे कि कैसे ये दोनों जीरों से ​हीरों बने हैं।

अमित सैणी रोहतकिया — अमित सैणी रोतकिया का जन्म 11 नवम्बर 1993 को हरियाणा के रोहतक जिले में हुआ। उपर वाले ने इनकी किस्मत में शायद पिता का प्यार नहीं लिखा था। इसलिए दुनिया में आने से पहले पिता का देहांत हो गया था। इनका पालन—पोषण इनकी माता ने ही किया। घर की हालत के ठीक नहीं होने के कारण इन्होंने अपनी पढ़ाई भी पूरी नहीं कि और जैसे—तैसे करके 12वीं क्लास करके पढ़ाई को अलविदा कह दिया।

क्योंकि घर की दशा को देखकर इन्होंने पढ़ाई छोड़कर काम करने में लग गये। इनका सिंगिंग का शौक शुरू से ही था और ये पढ़ाई टाइम से ही कुछ न कुछ लिखते और गाते रहते थे। काम के साथ ही उन्होंने सिंगिंग क्लास भी जॉइन कर रखी थी, जिसमें उनके गुरू थे सोनू शर्मा पानसीवाले। यह दिन में काम करके गुरूजी से म्यूजिक जाते थे।

ऐसे ही इनके दिन गुजरते गये और एक दिन ऐसा आया कि इनके गानों के लोग दिवाने हो गये और अब ये लाखों लोगों के दिलों पर राज करते हैं

गुलज़ार छानिवाला —गुलज़ार छानिवाला का जन्म 12 सितंबर 1997 को हरियाणा हिसार के भिवाणी में हुआ। इनका असली नाम आशीष शर्मा है।

इनके आशीष से गुल्जार बनने की कहानी बड़ी कठिनाई भरी है। किसी वजह से इनकी फैमिली को भिवाणी छोड़कर राजस्थान के छानी में आना पड़ा और यही से इन्होनें अपने केरियर की यही से शुरू की। शुरूआत में इनका सपना इंडियन आर्मी में जाने का था। लेकिन एक बार इन्होंने 6वीें क्लास में स्कूल डांस कॉम्पिटिशन में भाग लिया और इनकों डांस के लिए बेस्ट प्राइज दिया गया।

तभी से इन्होंने म्यूजिक में ही अपना कैरियर बनाने की सोची लेकिन वो भी खुद के गाये हुए गानों पर ही। शुरू में इन्होंने पंजाबी गानें लिखने शुरू किये और अपने दोस्तों की मदद से पब्लिश करवाया लेकिन पंजाबी गानों में कुछ खास कमाल नही दिखा पाये।

इसके बाद उनके छोटे भाई ने हरयाणवी गानों पर किस्मत आजमाने की सलाह दी और फिर उन्होनें अपने दोस्तों की मदद से अपना पहला हरयाणवी गाना ‘फाड फाड’ पब्लिश किया जिसके बाद से उनकी किस्मत कुछ इस तरह पलटी की आज लोागों के दिलों में एक अलग ही बना चुके है। जो अब काफी लोकप्रिय हो चुके है। तभी कहा जाता है मेहनत का फल आज नही तो कल मिलता जरूर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »