अमेरिका के 140 शहरों में भयंकर हिंसा, ट्रंप ने दी सेना बुलाने की धमकी,जानिए क्यों

अमेरिका में अश्वेत फ्लॉयड की मौत के बाद शुरू हुआ हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच डॉक्टरों ने जॉर्ज फ्लॉयड की मौत को हत्या बताया है। उन्होंने कहा कि पुलिस के उनके गले पर दबाव बनने से उनके दिल ने काम करना बंद किया। उधर, अमेरिका में हिंसा लगातार फैलती जा रही है। अब तक 140 शहर हिंसक प्रदर्शनों की चपेट में आ गए हैं। वहीं, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हिंसक प्रदर्शन नहीं रूकने पर सेना तैनात करने की धमकी दी।

अमेरिका में नागरिकों का यह कई दशकों में सबसे बड़ा प्रदर्शन माना जा रहा है। देश के करीब 140 शहरों में हिंसक प्रदर्शन की आग फैल गई है। मिनीपोलिस में 25 मई को 46 वर्षीय फ्लॉयड की गर्दन को एक पुलिसकर्मी ने घुटने से काफी देर तक दबाए रखा, जिससे उसकी मौत हो गई।

व्हाइट हाउस के रोज गार्डन से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में ट्रंप ने यह भी कहा कि फ्लॉयड की बर्बर मौत से सभी अमेरिकी दुखी हैं और इसका विरोध कर रहे हैं और इस बात पर जोर दिया कि इस मामले में न्याय होगा। ट्रंप ने राष्ट्र को आश्वासन दिया कि वह हिंसा को रोकने और अमेरिका में सुरक्षा बहाल करने के लिए कदम उठा रहे हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने बर्बादी और आगजनी को, दंगों और लूट को रोकने तथा कानून का पालन करने वाले अमेरिकियों के अधिकारों को संरक्षित करने के लिए सभी उपलब्ध सरकारी संसाधनों, नागरिकों और सेना को जुटा लिया है।

उन्होंने चेतावनी दी, ’’आज मैं प्रत्येक गवर्नर को सड़कों पर पर्याप्त संख्या में नेशनल गार्ड की तैनाती करने की सलाह देता हूं। मेयरों और गवर्नरों को हिंसा समाप्त होने तक कानून प्रवर्तन एजेंसियों या अधिकारियों की जबर्दस्त उपस्थिति सुनिश्चित करनी होगी। अगर कोई शहर या राज्य अपने निवासियों के जान-माल की रक्षा करने के लिए जरूरी कदम उठाने से इनकार करता है तो मैं अमेरिकी सेना को तैनात करुंगा और उनके लिए जल्द ही समस्या का हल कर दूंगा।’’

दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर लाइक करना ना भूलें और अगर आप हमारे चैनल पर नए हैं तो आप हमारे चैनल को फॉलो कर सकते हैं ताकि ऐसी खबरें आप रोजाना पा सके धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »