अपने हाथ को इस तरह पकड़ें, और देखें कि क्या होता है

अपने हाथों को पास से देखें। क्या देखती है? क्या आपका जवाब “सिर्फ मेरे हाथ” है? सही उत्तर के लिए किसी रिफ्लेक्सोलॉजिस्ट से पूछें। शोध के अनुसार, आपके हाथों पर बहुत सारे सक्रिय बिंदु होते हैं जो आपको अपने शरीर और मस्तिष्क पर शक्ति प्रदान करते हैं। क्या आप जानते हैं कि आप अपनी छोटी उंगली से क्या कर सकते हैं? रहस्यों को प्रकट करने के लिए लेख पढ़िये जो आपके स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं।

इस अनूठी विधि में 5 मिनट से भी कम समय लगता है। यहां आपका हाथ है: अंगूठा, तर्जनी, मध्यमा, अनामिका और छोटी उंगली। उनमें से प्रत्येक एक विशेष भावना या दृष्टिकोण के लिए जिम्मेदार है।

1.अंगूठा

अंगूठा चिंता और सिरदर्द का प्रतिनिधित्व करता है। जब आप किसी नर्वस सिरदर्द का अनुभव कर रहे हों या किसी चीज से चिंतित हों, तो अपने अंगूठे को लगभग 5 मिनट तक धीरे-धीरे दबाएं।

2.तर्जनी उंगली

यह उंगली मांसपेशियों में दर्द के साथ-साथ निराशा, भय और शर्मिंदगी की भावनाओं को नियंत्रित करती है। 5 मिनट के लिए अपने दूसरे हाथ से अपनी तर्जनी को बंद करें, और आप राहत महसूस करेंगे।

3.मध्यमा उंगली

जब आप गुस्सा, गुस्सा, या सामान्य से अधिक थक जाते हैं तो अपनी मध्यमा उंगली को दबाने से बेहतर महसूस करने में मदद मिलती है।

4.अनामिका

अगर आप अपनी अनामिका को 5 मिनट तक धीरे-धीरे दबाते हैं तो नकारात्मक भावनाएं और उदासी दूर हो जाएगी।

5.छोटी उंगली

छोटी उंगली आत्मसम्मान, तनाव और घबराहट का प्रतिनिधित्व करती है। जब आपको लगे कि आप किसी चीज के लायक नहीं हैं, तो आपको छोटी उंगली से 5 मिनट तक मालिश करनी चाहिए।

एक हाथ की उंगलियों को दूसरी हथेली के बीच में दबाएं। वृत्ताकार गतियों में इसकी मालिश करें, और तीन बार गहरी सांस लें और छोड़ें। रिफ्लेक्सोलॉजिस्ट कहते हैं कि आपकी हथेली आपकी भावनाओं और भावनाओं का केंद्र है।

अपनी हथेलियों को एक साथ दबाकर, आप अपने रक्त परिसंचरण में सुधार कर सकते हैं। इसके अलावा, इस स्थिति को पकड़कर, आप अपने दिमाग को साफ कर सकते हैं और अपने दिल, गुर्दे और आंतों के कार्यों को सामान्य कर सकते हैं।

सूर्य मुद्रा

सूर्य मुद्रा स्थिति आपकी पाचन और चयापचय में सुधार करने में मदद करेगी। तकनीक का उपयोग निम्न रक्त तापमान और भूख की हानि के लिए भी किया जाता है।

सूर्य मुद्रा के फायदे

1.कब्ज

2.बवासीर

3.मोटापा

4.कोलेस्ट्रॉल

5.अंतर्ज्ञान जाग्रत

6.शरीर की सूजन

7.शरीर में ताकत

8.पेशाब के रोगों

9.पेट की बीमारियां

10.स्त्रियों के बच्चा होने के बाद शरीर में मोटापा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »