अच्छी खबर: पैनडेमिक के बावजूद यूके में भारतीय छात्रों के रिकॉर्ड एडमिशंस, वीजा रूट हुआ आसान

UK ने हाल ही स्टूडेंट्स के लिए नया वीजा रूट तय किया है। इससे अंतरराष्ट्रीय स्टूडेंट्स को वीजा मिलने और पढ़ाई के बाद यूके में रहने में आसानी होगी। अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए यह नया वीजा रूट 5 अक्टूबर से पुराने टियर 4 वीजा रूट को रिप्लेस करेगा। गौर करने वाली बात यह है कि कोविड-19 के बावजूद यूके की यूनिवर्सिटी में रिकॉर्ड एडमिशंस हुए। यहां आने वाले स्टूडेंट्स की संख्या बताती है कि यह उनका पसंदीदा फॉरेन स्टडी डेस्टिनेशन बन चुका है। इतना ही नहीं पोस्ट-स्टडी वर्क वीजा स्टूडेंट्स को मास्टर्स की पढ़ाई पूरी होने के बाद 2 साल तक और पीएचडी के बाद तीन साल तक रहने और काम करने की अनुमति भी देता है।

पहले से आसान हुए नए वीजा नियम क्या है

• यूके में पढ़ने के इच्छुक 4-17 वर्ष के इंटरनेशनल स्टूडेंट्स के लिए स्टूडेंट रूट और चाइल्ड स्टूडेंट रूट खुल चुका है। वीजा के लिए स्टूडेंट्स को कुल 70 पॉइंट्स की जरूरत होगी जो शर्तों को पूरा करने पर मिलेंगे, ये ट्रेडेबल नहीं होंगे। जिन्हें टीयर 4 सिस्टम के तहत स्टडी ऑफर मिल चुका है और 5 अक्टूबर से पहले एप्लीकेशन दी है तो उन्हें पुराने रूट के नियमों के तहत वीजा दिया जाएगा। यूके आने वाले इंटरनेशनल स्टूडेंट्स की संख्या पर कोई सीमा लागू नहीं होगी। ग्रेजुएट रूट समर 2021 में खुलेगा। यह उन स्टूडेंट्स को अनुमति मिलेगी जिन्होंने अंडर ग्रेजुएट या मास्टर्स डिग्री पूरी कर ली है। मास्टर्स करने के बाद छात्र यहां दो साल और पीएचडी के बाद तीन साल काम करने या काम की तलाश करने के लिए रुक सकेंगे।

दुनिया की श्रेष्ठ 10 में से 3 यूनिवर्सिटीज इसी देश में

हायर एजुकेशन के लिए यूके दुनियाभर के स्टूडेंट्स के लिए सबसे पसंदीदा डिक्टेशन है। वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग के अनुसार दुनिया की बेस्ट 10 यूनिवर्सिटीज में से तीन यहां मौजूद हैं। यही नहीं यहां की डिग्री को ग्लोबल स्तर की यूनिवर्सिटीज, एम्प्लॉयर्स और सरकारी विभाग मान्यता देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »